Posts tagged views

फ़िल्मी प्रेम कहानिया और बूचडखाने

प्रेम, यह एक ऐसा भाव है जिसको परिभाषित करना बड़ा मुश्किल है. समस्त फिल्म जगत चाहे वह बॉलीवुड हो या हॉलीवुड इसी भाव को टकसाल ही तरह प्रयोग करता है, खासकर बॉलीवुड। बिना प्रेम बॉलीवुड…

Read More

फेमिनिज्म का षड़यंत्र और माय च्वॉइस

सफलता, सक्सेस, कैरियर आज के युवा का प्रमुख ध्येय यही है और उनको दोष नहीं दे सकते गोयाकि वो कई बसंत इसी उद्देश्य पूर्ती में निकाल देते हैं, और आजकल feminism  नाम का जो षड़यंत्र चल रहा है उसमे युवा…

Read More

बैटमैन बनाम सुपरमैन: डॉन ऑफ़ जस्टिस रिव्यु

3 साल के लम्बे इंतज़ार के बाद कल बहुप्रतीक्षित फिल्म बैटमैन v सुपरमैन डौन ऑफ जस्टिस देखने का अवसर मिला। मैं निजी तौर पर बैटमैन का बहुत ही बड़ा प्रशंषक हूँ और फ्रैंक मिलर की…

Read More

मोहल्ला अस्सी : धार्मिक पाखण्ड और वैश्वीकरण

कल सनी देओल की मोहल्ला अस्सी देखी, कोर्ट ने इस फिल्म की रिलीज़ पर स्टे लगा दिया है और कुछ धार्मिक पाखंडी इस फिल्म को रिलीज़ नहीं होने देंगे ऐसा मेरा विश्वास है, इसलिए मैंने…

Read More